पुरुष में शकरुणों की उपलब्धता में कमी और उसका उपचार

0
4665

जायदातर बाँझपन के लिए महिलों को दोषी मन जाता है और कहा जाता है की महिला की कसीस कमजोरी के कारण वह माँ बनाने में असमर्थ है, लेकिन इसके कोई शक नहीं की महिलों के मुकाबले पुरुषों में भी बाजखपन के बहुत कारण होते है | अगर किसी पुरुष में कमजोरी है तो वह महिला को गर्भवती नहीं कर पायेगा |

पुरुष की कमजोरियों के कई कारण है , जिनमे से एक शक्राणुओं की कम मात्रा भी है | इसका मतलब है की पुरुष के वीर्य में महिला को गर्भवती बनाने के जिमेवार तत्व जिसे शक्राणु कहा जाता है , वह बहुत कम है | शक्राणुओं की पर्यपत मात्रा होने पर ही कोई पुरुष पिता बनने का सुख हासिल कर सकता है |

सम्भोग के समय जब पुरुष का वीर्य संखलित होता है ,लेकिन संख्लन के समय दर्द मेहसूस होता है | अगर वीर्य पूरा भी हो तो उसमे शकरणुओं की मात्रा/गिनती सामान्य से कम होती है |

कारण

पुरुष में शकुनों की गिनती कम होने के कई कारण है

बचपन की गलत आदतों की वजह से बहुत से पुरषों में शकरुनु की गिनती कम हो जाती है | पुरुष जब किशोर अवस्था में होते हैं तो उनके माता पिता को उन पर ध्यान देना चाहिए | बहुत बार माता पिता उनकी गलत आदतों को नजर अंदाज कर देते है या कई बार तो माता पिता को इन आदतों का पता ही नहीं होता | यह कारण बहुत ही घातक है | किशोर उम्र में की गए गलतियां आपको बाद में पश्चाताप करने के लिए मजबूर कर सकती हैं |

बहुत से पुरषों की नशस , शराब या धूपरपन की आदत होती है | नशे की लत से उनका शरीर कमजोर होता रहता है और धीरे धीरे शकरणुओं की गिनती भी कम होती जाती है | आखिर में यह संख्या इतनी काम हो जातिउ है की पुरुष पिता बनने का सुख नहीं ले पाता|

किसी पुरुष का बहुत जायदा समय के लिए मानसिक दवाब में रहना , उसे शरीरक तौर पर भी कमजोर कर देता है | मानसिक दवाब में रहते से उसकी सेहत पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है और उसकी प्रजनन शक्ति को बहुत कम कर देता है | लगातार मानसिक दवाब एवं तनाव की स्थिति पुरुष के शक्राणुओं को खतम कर देती है |

किसी दुर्घटना में अगर पुरुष को कोई ऐसी चोट ए है जिस कारण उसके प्रजनन अंग को कोई नुकसान पहुंचा हो , तो भी वह पिता बनने में सक्षम नहीं रहता | अगर किसी बीमारी से भी लम्बे समय तक पीड़ित रहा है तो भी कमजोरी के कारन वह बाँझपन का शिकार बन सकता है |

उपचार

इसका उपचार कोई बहुत महंगा या बड़ा नहीं है | कुछ दवाएं खाने से या कुछ ऐसी थेरपीएस हैं जिनकी मदद से उपचार किया जा सकता है | डा. सुमिता सोफट अस्पताल लुधिआना की मुख्या डा. सुमिता सोफट ने बतया की है कुछ बेहतरीन तकनीकों और कुछ दावों के सुमेल से शकरुणों की संख्या बड़ाई जा सकती है लेकिन इसके लिए बहुत सी और सावधानियां बरतने की जरूरत है |

नियमित वाव्याम से अपनी सेहत को स्वस्थ रखो | बिमारियों और कमजोरी से मुक्त एक स्वस्थ्य शरीर ही प्रजनन की सभी किर्याओं को सही तरिके से पूरा कर सकता है | स्वस्थ्य शरीर ही पूरी मात्रा में शकरुणों का उत्पादन कर सही प्रजनन किर्या कर्ता है और आप पिता बनाने का सुख पा सकते हैं |

सही जीवन शैली और खाने पीने की सही आदतें ही एक स्वस्थ्य जीवन का आधार होती हैं | अगर खाने पीने को स्वस्थ्य एवं सम्पूर्ण भोजन मिलेगा तभी शरीर पूरी मात्रा में शक्राणुओं का उत्पादन कर पायेगा |

नशे के सेवन से दुरी रखें क्यूंकि नशा इस समस्या का एक बहुत बड़ा कारन है |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY