चलिए जानते है गर्भधारण कैसे होता है ? अंडा और शुक्राणु शरीर में कैसे बनते है ?

चलिए जानते है गर्भधारण कैसे होता है अंडा और शुक्राणु शरीर में कैसे बनते है

गर्भधारण करना एक महिला के लिए सबसे बड़ी ख़ुशी की बात होती है | हाँ, यह जानना ज़रूरी है की कई बार जो महिला खुद से गर्भवती नहीं हो पा रही है तो उनको IVF Centre in Punjab में सबसे बेहतरीन डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए | यदि आप एक अच्छा infertility clinic in ludhiana ढूंढ रहे है तो Gomti Thapar Hospital आपको माँबाप बनने की ख़ुशी को जीने में सहायता दे सकता है |

महिला के शरीर में अंडा कैसे बनता है ?

अंडे को डिंब भी कहा जाता है और गर्भधारण की परिक्रिया अंडाशयों में शुरू होती है | इनकी मात्रा 2 होती है जो की अंडाकार अंग होते है और यह गर्भशय में जुड़े होते है | जब एक महिला का जनम होता है तो वह लगभग 10 से 20 लाख अंडों के साथ पैदा होती है | जिनमे से कई तो तभी ख़तम हो जाते है और जैसे महिला की उम्र बढ़ती है वैसे ही इनकी मात्रा भी कम होने लग जाती है | जब महिला को पहली बार पीरियड्स होते है तो उस समय अंडो की गिनती लागबहग 6 लाख होती है |

जब महिला का मासिक चक्र चल रहा होता है तो हर पीरियड्स के बाद तो किसी एक अंडाशय में 3 से ३० अंडे परिपरक होने शुरू हो जाते है | उसके साथ ही महिला को हर महीने ओवुलेशन होता है | जब एक अंडा बनता है तो उसको फॉलोपियन ट्यूब में खीच लिया जाता है | ओवुलेशन की परिक्रिया पीरियड्स आने से पहले होता है, लगभग 12 से 14 दिन पहले |

जब एक नाडा बनता है तो वह 24 घंटो के लिए जीवित रहता है | यदि इस समय अंडा और शुक्राणु मिल जाएँ तो भ्रूण बनने की परिक्रिया शुरू हो जाती है | यदि भ्रूण बनने की परिक्रिया नहीं होती तो अंडाशय यहीं पर समाप्त हो जाता है | इसके साथ ही अंडाशय ईस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टीरोन हॉर्मोन बनाना बंद कर देते है | इसके बाद गर्भशय की मोती परत माहवारी के दौरान निकल जाती है और अंडे को जो भी अवशेष होते है वह तभी निकल जाते है |

पुरुष के शरीर में शुक्राणु कैसे बनता है ?

पुरुष के शरीर में शुक्राणु बनने की विधि लगातार चलती रहती है | शुक्राणु का एक ही काम होता है की वह अंडे से मिले एंड ताकि एक महिला गरब धारण कर सके | एक नई शुक्राणु कोशिका को बनने में लगभग 10 हफ्तों का समय लगता है |

अंडो के मुकाबले शुक्राणु ज़्यादा समय के लिए जीवित रहता है | वीर्यपात (ejaculation) के समय लगभग 4 करोड़ शुक्राणु बहार आते है | पुरषों में टेस्टोस्टीरोन हॉर्मोन शुक्राणु को बनने में सहयता देता है | यह समझना ज़रूरी है की लाखों शुक्राणु बनने के बाद भी सिर्फ एक ही जाके अंडे से मिलता है |

शिशु का लिंग किस बात पर निर्भर होता है ?

वाई (Y) गुणसूत्र शुक्राणु बेटे का जन्म होगा

एक्स (X) गुणसूत्र शुक्राणु बेटी का जन्म होगा

संभोग (सेक्स) के दौरान क्या होता है?

गर्भधारण की सम्भावना को दुगना करने के लिए आपको अपने मासिक चक्र के दौरान हर 2 या 3 दिन संभोग करना चाहिए | उसके बाद ऐसा कुछ नहीं है जो आपको करना होगा और उससे आपके प्रेगनेंसी के चान्सेस बढ़ जाएँ | बहुत से चीज़ें है जिनसे की आपके गर्भधारण करने की सम्भावना बदल सकती है | को शुक्राणु सबसे तेज़ तीरता है यह लगभग अंडे को 45 मिनट में ढूंढ लेता है |

जब एक महिला गर्भधारण कर लेती है तो उसकी बॉडी में कुछ बदलाव आते है और यदि आप उन बदलावों को महसूस कर सकती है तो आप डॉक्टर से परामर्श करें | वह ब्लड टेस्ट के द्वारा जाँच करके आपको बतायेँगे अपने गर्भधारण किया है या नहीं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY