पुरुष बांझपन के उपचार के लिए सात सामान्य औषध और दवा

0
841

QUICK INQUIRY


पुरुष बांझपन के उपचार के लिए सामान्य औषध और दवा

केवल महिलाओं में ही बाँझपन की समस्या नहीं होती बल्कि पुरषों में भी यह समस्या हो सकती है | बाँझपन की जिम्मेदार जायदातर महिलाओं को माना जाता है लेकिन पुरष भी इसके लिए बराबर के हिस्सेदार हैं | पुरषो में इस समस्या के कुछ ही कारन होते हैं |

सिर्फ एक शक्राणु के विश्लेषण से ही समस्या का आधार पता चल जाता है | शक्राणुओं की गिनती कम हो सकती है | बहुत से मामलों में शक्राणु गतिशील नहीं होते , जिस कारन गर्भधरण नहीं हो सकता | कुछ मामलों में हार्मोन्स भी इसे प्रभावित करते हैं |

इन सबके लिए जिम्मेवार करक निम्नलिखित हैं –

– धुपार्पण
– शराब की लत
– किसी दवा का गलत उपयोग
– तनाव
– मानसिक सेहत अदि बहुत से कारक हैं |

उपचार –
पुरुष बांझपंन का उपचार महिला बाँझपन उपचार से बहुत सरल है क्यूंकि जो हार्मोन्स महिला प्रजनन में कम करते है उससे आधे हार्मोन्स पुरुष प्रजनन में काम करते हैं |
इसके उपचार में काम करने वाली दवाओं के नाम हैं –

१. क्लोमीफीन –
इस दवा का उपयोग महिलों के अंडाशय में अंडे पैदा करने के लिए किया जाता है | यह एक उत्तेजित दवा है , इसीलिए इसका उपयोग पुरुषों में अहकरणु की गतिशीलता को बढ़ने के लिए किया जाता है |

२. लेट्रोज़ोले
शक्राणुओं के उपचार की लिए यह बहुत बड़े स्तर पर इस्तेमाल किया जाता है | यह शक्राणुओं की गिनती बढ़ने में बहुत कारगर है |

३. मानव रजनोवृत्ति गोनाडोट्रोपिन –
पुरुष को सम्भोग के लिए तैयार करता है और संखलित होते समय शकरणुओं की अच्छी गणना रखता है |

४. टेस्टोस्टेरोन इंजेक्शंस या गोलियां
शरीर में टेस्टोस्टेरोन की मात्रा कम हो जाती है जिस कारन बाँझपन पैदा होता है | इस दवा से उसे पूरा किया जाता है |

५. ब्रोमोक्रिप्टीने
इस दवा का उपयोग शरीर में प्रोलैक्टिन के स्तर को निश्चित करने के लिए किया जाता है |

क्या प्रजनन दवाओं का उपयोग सुरक्षित है ?
प्रजनन दवाओं का उपयोग केवल चित्सक की सलाह से ही करना चाहिए | आपकी स्थिति के हिसाब से जो दवा आपके लिए बेहतर होगी उसकी की आपका चित्सक सलाह देगा |

क्या यह दवा काम करती है ?
पुरुष के शरीर में इनकी काम करने की क्षमता महिला के शरीर के मुकाबले कम है | फिर भी यह अच्छा काम करते हैं |

दवाओं के दुष्प्रभाव –

अन्य दवाओं की तरह इनका दुष्प्रभाव भी हो सकता है | इसीलिए सलाह दी जाती है चित्सक की सलाह से ही इनका सेवन करें |
– अस्थायी नजर का धुंदलापन
– दिल को नुकसान
– शरीरक हार्मोन्स परबह बदल जाना |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY