इन-विट्रो निषेचन और टेस्ट ट्यूब बेबी (परखनली शिशु) की प्रक्रिया, कारण, जोखिम, लागत, और सफलता दर की व्याख्या करें|

0
372
इन-विट्रो निषेचन और टेस्ट ट्यूब बेबी (परखनली शिशु) की प्रक्रिया, कारण, जोखिम, लागत, और सफलता दर की व्याख्या करें|

QUICK INQUIRY


इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (IVF) और टेस्ट ट्यूब बेबी (परखनली शिशु) की प्रक्रिया जानिये हिंदी में

कई बार महिलाओं को गर्भधारण करने में बहुत ही मुश्किलों का सामना करना पड़ता है| एक सर्वेक्षण के अनुसार करीब 6.7 प्रतिशत महिलायें प्रजनन संबंधी समस्या (इनफर्टिलिटी) की शिकार होती हैं| यह समस्या अलग- अलग वजह से हो सकती है| यह समयसा केवल महिलाओं में ही नहीं बल्कि पुरषो में भी हो सकती है| अगर आप काफी समय से गर्भवती होने की कोशिश कर रहे है पर सफलता नहीं मिल पा रहे है तो आप समय रहती ही डॉक्टर से सम्पर्क करे|

इन-विट्रो-निषेचन (IVF) क्यों क्यों जाता है

इनविट्रोफर्टिलाइजेशन क्या है?

इन-विट्रो की प्रकिर्या की मदद से बहुत सारी महिलायें गर्भवती होने में सफल हुई है| इस प्रकिर्या को टेस्ट ट्यूब बेबी (परखनली शिशु) भी कहा जाता है|

प्रकिर्या के दौरान:

  • सबसे पहले महिला का मासिक धरम (पीरियड्स)) रोका जायेगा| इसके लिए डॉक्टर आपको कुछ दवाईयाँ लिख कर देंगे, जिसकी मदद से आपका मासिक धरम रुक जायेगा| इस प्रक्रिया को पूरा होने में लगभग दो सप्ताह लग जाते है|
  • फिर जब आपके पीरियड्स रुक जाते है तो आपको फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हार्मोन दिए जायेगा| इस इंजेक्शन की मदद से अंडो की संख्यां बढ़ जाती है| यह इंजेक्शन आपको दस से बारह दिन के लिए लगातार लेना पड़ेगा|
  • पूरी प्रकिर्या के दौरान डॉक्टर आपकी सेहत पे करीब नज़र रखेंगे| फिर आपको एक इंजेक्शन दिए जायेगा जिसके मदद से अंडे निषेचन के लिए त्यार होते है| इंजेक्शन लेने के 34 से 38 घंटे के बाद अंडे बनने शुरू होते है|
  • इसके बाद गर्भाशय से अंडे बहार निकले जाते है| इस प्रकिर्या को पूरा होने में 20 मिनट लगते है|
  • इसके बाद प्रयोगशाला में आगे की प्रकिर्या होते है| आपके अंडो को टेस्ट ट्यूब में रखा जाता है| फिर २० घंटो के बाद जांचा जाता है की परिक्रया सफल हुई या नहीं| स्थानांतरण के लिए सबसे अचे अंडे चुने जाते है| स्थानांतरण की प्रक्रिया कैथटर से की जाती है|

प्रक्रिया की सफलता दर

इन-विट्रो की सफलता दर कुछ कारण पे निर्भर करती है जैसे की आपकी उम्र कितनी है, अपने इलाज कहाँ से करवाया है, और डॉक्टर का अनुभव कितना है| के बार जो आप दवाईआं ले रहे होते है उनका प्रभाव भी गलत पढ़ सकता है| इस प्रक्रिया की सफलता 35 की उम्र में 40% है और जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है वैसे ही सफलता दर कम होती है|

साइड इफेक्ट्स और जोखिम

प्रक्रिया के दौरान गर्भ में दो भ्रूण डाले जाते हैं| कई बार जुड़वाँ बचे होने का जोखिम होता है| जब बच्चा पैदा होता है तो उसका वजन कम होने की सम्भावना होती है| कई बार जो आप दवाईआं ले रहे होते है उनका प्रभाव भी गलत पढ़ सकता है|  शिशु ‘स्पाइना बिफिडा’ यानी रीढ़ की हड्डी का दोष होने का खतरा हो सकता है|

लागत

इस प्रक्रिया की लागत ₹ 50,000 है जो सबसे कम है| बाकि यह जगह और डॉक्टर पर भी निर्भर करता है की आप कहाँ से इलाज करवा रहे हैं|

I.U.I I.V.F/ICSI + Drugs (Approx Rs. 60k – 80k) Laser Assisted Hatching Blasto cyst Culture Transfer Tesa Sperm Preserv
₹ 15000 ₹ 50000 ₹ 15000 ₹ 15000 ₹ 15000 ₹ 5000

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY